उत्तराखंड की भौगोलिक संरचना

उत्तराखंड की भौगोलिक संरचना

उत्तराखंड की भौगोलकि संरचना

उत्तराखंड राज्‍य का क्षेत्रफल

उत्तराखंड राज्‍य का कुल क्षेत्रफल 53,483 वर्ग किलोमीटर है। जो भारत के कुल क्षेत्रफल का 1.69% है। 

जिसमें क्षेत्रफल की दृष्टि से राज्‍य का सबसे बड़ा जनपद चमोली है, जिसका क्षेत्रफल (8030 वर्ग किलोमीटर) है। वहीं क्षेत्रफल की दृष्टि से राज्‍य का सबसे छोटा जनपद चम्‍पावत है, जिसका क्षेत्रफल (1766 वर्ग किलोमीटर) है।

 

उत्तराखंड राज्‍य का अक्षांंशीय व देशान्‍तरीय विस्‍तार

वृहत हिमालय और गंगा के मैदान के बीच स्थित इस राज्‍य का विस्‍तार

  • 28°43′ उत्तरी अक्षांश से 31°27′ उत्तरी अक्षांश है।
  • 77°34′ पूर्वी देशांतर से 81°02′ पूर्वी देशांतर के मध्‍य स्थित है।

 


उत्तराखंड राज्‍य का आकार आयताकारनुमा है। राज्‍य की पूर्व से पश्चिम दिशा की लंबाई 358 किलो मीटर है, वहीं उत्तर से दक्षिण दिशा की चौड़ाई 320 किलोमीटर है। राज्‍य का सबसे पूर्वी जनपद पिथौरागढ़ तथा सबसे पश्चिमी जनपद देहरादून है। वहीं राज्‍य का सबसे उत्तरी जनपद उत्तरकाशी व सबसे दक्षिणी जनपद ऊधमसिंहनगर है।

 

 

उत्तराखंड की भौगोलिक सीमा

भौगोलिक सीमा

जब किसी राज्‍य की सीमा का निर्धारण प्राकृतिक रूप से किया जाता है, तो उसे भौगोलिक सीमा कहते हैं।

यदि हम उत्तराखंड की भौगोलिक सीमा की बात करे तो इसमें उत्तराखंड राज्‍य के पूर्व में काली नदी तथा पश्चिम में टौंस नदी राज्‍य की सीमा बनाते हैं। वहीं उत्तर में वृहत हिमालय तथा दक्षिण दिशा में शिवालिक श्रेणी राज्‍य की भौगोलिक सीमा बनाती है।

 

 

उत्तराखंड की राजनैतिक सीमा

राजनैतिक सीमा

जब किसी राज्‍य की सीमा किसी अन्‍य राज्‍य या देश से लगती है, तो उसे राजनैतिक सीमा कहते हैं।

यदि उत्तराखंड की राजनैतिक सीमा के बारे में देखे तो जिसमें पूर्व में नेपाल तथा पश्चिमी में हिमाचल प्रदेश राज्‍य की राजनैतिक सीमा का निर्माण करती है। वहीं उत्तर दिशा में चीन (तिब्‍बत) व दक्षिण दिशा में उत्तरप्रदेश राज्‍य, राज्‍य की राजनैतिक सीमा का निर्माण करते हैं। प्रदेश की पूर्वी तथा उत्तरी सीमा अंतराष्‍ट्रीय सीमा राजनैतिक सीमा है।

उत्तराखंड की भौगोलिक

उत्तराखंड के जनपद

उत्तराखंड राज्‍य में 13 जनपद हैं, जिन्‍हें दो मंडलों में बांट गया है।

गढ़वाल मंडल के जनपदकुमाऊ मंडल के जनपद
चमोलीपिथौरागढ़ 
उत्तरकाशीबागेश्‍वर
रूद्रप्रयागचम्‍पावत
पौढ़ीअल्‍मोड़ा
टिहरीनैनीताल
देहरादूनऊधमसिंहनगर
हरिद्वार

उत्तराखंड के पूर्णत: आंतरिक जनपद

आंतरिक जनपद

ऐसे जनपद जिनकी सीमा न किसी राज्‍य से लगती है, और न किसी देश से लगती है। ऐसे जिल्‍लों को आंतरिक जिल्‍ले कहते हैं। उत्तराखंड राज्‍य के 4 जनपद पूर्णत: आंतरिक जनपद है।

  • टिहरी
  • रूद्रप्रयाग
  • बागेश्‍वर
  • अल्‍मोड़ा

उत्तराखंड की भौगोलिक

 


महत्‍वपूर्ण बिन्‍दु

 

  • राज्‍य के 3 जिले (उत्तरकाशी, चमोली, और पिथौरागढ़) तिब्‍बत(चीन) से अंतर्राष्‍ट्रीय सीमा बनाते हैं। जिसमें तिब्‍बत(चीन) से पिथौरागढ़ जिला सबसे ज्‍यादा अंतर्राष्‍ट्रीय सीमा बनाता है। पिथौरागढ़ के बाद चमोली व सबसे कम उत्तरकाशी जिला तिब्‍बत(चीन) के साथ अंतर्राष्‍ट्रीय सीमा बनाता है।
  • राज्‍य के 3 जिले ( पिथौरागढ, चम्‍पावत तथा ऊधमसिंहनगर) नेपाल से अंतर्राष्‍ट्रीय सीमा बनाते हैं। जिसमें पिथौरागढ़ जिला नेपाल के साथ सर्वाधिक अंतर्राष्‍टीय सीमा बनाता है। पिथौरागढ़ के बाद चम्‍पावत और सबसे कम ऊधमसिंहनगर अंतर्राष्‍ट्र्रीय सीमा बनाता है।  
  • वहीं राज्‍य के 5 जिले ( ऊधमसिंहनगर, नैनीताल, पौढ़ी, हरिद्वार तथा देहरादून) उत्तर प्रदेश राज्‍य के साथ राज्‍य की राजनैतिक सीमा का निर्माण करते हैं।  
  • राज्‍य के 2 जिले (उत्तरकाशी, और देहरादून) हिमाचल प्रदेश राज्‍य के साथ राज्‍य की राजनैतिक सीमा बनाते हैं। 

महत्‍वपूर्ण बिन्‍दु

  • पौढ़ी जिले की सीमाएं राज्‍य की 7 जिलों (हरिद्वार, देहरादून, टिहरी गढ़वाल, रूद्रप्रयाग, चमोली, अल्‍मोड़ा तथा नैनीताल) से लगती है।

वहीं अल्‍मोड़ा और चमोली जिले की सीमा राज्‍य के 6-6 जिलों से लगती है। 

  • चमोली जिले की सीमाएं राज्‍य के 6 जिलों (उत्तरकाशी, रूद्रपयाग, पौढ़ी गढ़वाल, अल्‍मोड़ा, बागेश्‍वर तथा पिथौरागढ़ से लगती है।
  • अल्‍मोड़ा जिले की सीमा राज्‍य के 6 जिलों (नैनीताल, चम्‍पावत, पिथौरागढ़, बागेश्‍वर, चमोली, तथा पौढ़ी गढ़वाल जिले से लगती है। 

  • टिहरी जिले की सीमाएं  राज्‍य कें 4 जिलों (देहरादून, उत्तरकाशी, रूद्रप्रयाग तथा पौढ़ी गढ़वाल जिले से लगती है। 
  • रूद्रप्रयाग जिले की सीमाएं राज्‍य के  4 जिलों (उत्तरकाशी, चमोली, पौढ़ी गढ़वाल और टिहरी गढ़वाल से लगती है। 
  • बागेश्‍वर जिले की सीमाएं राज्‍य के 3 जिलों (चमोली, पिथौरागढ़, तथा अल्‍मोड़ा जिल्‍ले से लगती है।

क्षेत्रफल की दृष्टि से उत्तराखंड के 5 सबसे बड़े जिले (अवरोही क्रम में) 

आरोही क्रम का अर्थ होता है, सबसे बड़े से छोटे की ओर (9 से 1)

जिले (आरोही क्रम में)क्षेत्रफल
चमोली8030
उत्तरकाशी8016
पिथौरागढ़7090
पौढ़ी गढ़वाल5329
नैनीताल 4251

 

 

क्षेत्रफल की दृष्टि से उत्तराखंड के 5 सबसे छोटे जिले ( आरोही क्रम में) 

आरोही क्रम का अर्थ होता है, कि सबसे छोटे से बड़े की ओर ( 1 से 9)

जिलेआरोही क्रम में
चम्‍पावत1766
रूद्रप्रयाग1984
बागेश्र्वर2246
हरिद्वार2360
ऊधमसिंहनगर2542

 

Read More Post…… उत्तराखंड में संगम बनाने वाली नदियां और उनके तटीय क्षेत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share
error: Content is protected !!